अडानी-अंबानी की साझेदारी भारत के आर्थिक पुनर्जागरण को कैसे दे सकती है गति

Upendrra Rai
Upendrra Rai
Chairman & Managing Director, Editor-in-Chief, The Printlines | Bharat Express News Network
Must Read
Upendrra Rai
Upendrra Rai
Chairman & Managing Director, Editor-in-Chief, The Printlines | Bharat Express News Network

Mudde Ki Parakh: अडानी-अंबानी समूह की संभावित साझेदारी से FDI में गिरावट को रोकना और अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के बीच विश्वास पैदा करना सहज होगा। यह साझेदारी डिजिटल बुनियादी ढांचे, नवीकरणीय ऊर्जा और ई-कॉमर्स में अवसरों को खोल सकती है, जिससे भारत इन क्षेत्रों में ग्‍लोबल लीडर के रूप में स्थापित हो सकता है।

हाल ही में अनंत अंबानी के प्री-वेडिंग सेलिब्रेशन में मुकेश अंबानी और गौतम अडानी के साथ आने से न केवल आशा की एक किरण प्रज्ज्वलित हुई है, बल्कि इसने भारत के व्यापार परिदृश्य में एक संभावित परिवर्तनकारी बदलाव का संकेत भी दिया है। चकाचौंध और ग्लैमर से परे, उनका गठजोड़ (साझेदारी) भारत की आर्थिक संभावनाओं को पुनर्जीवित करने में, खासकर प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) की हालिया चुनौतियों के लिहाज से अहम रहेगा।

भारत में हाल के वर्षों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में उल्लेखनीय गिरावट देखी गई है। 2023 तक शुद्ध एफडीआई प्रवाह सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का 1.7% से घटकर लगभग 0.5% हो गया है। आर्थिक विकास, तकनीकी उन्नति और रोजगार सृजन में एफडीआई की महत्वपूर्ण भूमिका को देखते हुए यह मंदी चिंता का कारण है।

इस गिरावट के कई फैक्‍टर हैं:

1. नौकरशाही लालफीताशाही: निवेशकों को अक्सर जटिल नियामक बाधाओं और सुव्यवस्थित प्रक्रियाओं की कमी का सामना करना पड़ता है, जो निवेश को बाधित कर सकती हैं।

2. अनुबंध प्रवर्तन: अनुबंधों के प्रवर्तन (Enforcement of Contracts) में खराब ट्रैक रिकॉर्ड विदेशी निवेशकों के लिए अनिश्चितता का माहौल पैदा कर सकता है।

3. श्रम उत्पादकता: अन्य देशों की तुलना में भारत की श्रम उत्पादकता (Labor Productivity) अपेक्षाकृत कम है, जो निवेश के समग्र उत्पादन और लाभप्रदता को प्रभावित कर सकती है।

4. अपर्याप्त सौदे पर हस्ताक्षर: भारत विदेशी निवेश को सुविधाजनक बनाने वाले पर्याप्त सौदों पर हस्ताक्षर करने में सक्रिय नहीं रहा है। कई द्विपक्षीय निवेश संधियों की समाप्ति ने भी गिरावट में योगदान दिया है, क्योंकि इससे विदेशी निवेशकों के लिए अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता की तलाश करना अधिक चुनौतीपूर्ण हो गया है।

भारतीय अर्थव्यवस्था एक समय में अपनी विकास गाथा को बढ़ावा देने के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) पर काफी निर्भर थी। हालांकि एफडीआई प्रवाह में हालिया गिरावट चिंताजनक है, यह एक गंभीर जांच को प्रेरित करती है: भारतीय कॉरपोरेट संस्थाएं हमारे देश के आर्थिक ढांचे में आवश्यक पूंजी को शामिल करने के लिए एकजुट क्यों नहीं हो सकती हैं?

हाल ही में हुई अनंत अंबानी की हाई-प्रोफाइल प्री-वेडिंग सेरेमनी में अडानी और अंबानी परिवारों के एकीकरण ने एक रणनीतिक गठबंधन की चर्चा को तेज कर दिया है, जो भारतीय आर्थिक परिदृश्य को फिर से परिभाषित कर सकता है। यह संभावित साझेदारी आशा की किरण के रूप में दिख रही है, जो भारत के दो सबसे प्रभावशाली औद्योगिक दिग्गजों के बीच परिवर्तनकारी सहयोग का संकेत देती है।

अडानी-अंबानी का तालमेल न केवल उनके पर्याप्त वित्तीय संसाधनों का लाभ उठा सकता है, बल्कि अंतरराष्ट्रीय ऋणदाताओं को भी आकर्षित कर सकता है, जो अनुकूल शर्तों की पेशकश करने के साथ नए निवेश को बढ़ावा दे सकता है और देश के भीतर विकास को भी गति दे सकता है।

आर्थिक पुनरुद्धार के लिए तालमेल: संयुक्त वित्तीय कौशल का इस्‍तेमाल

रिलायंस इंडस्ट्रीज और अडानी समूह की साझेदारी, जो कि अपने-अपने क्षेत्र में अग्रणी हैं, भारत के आर्थिक पुनरुत्थान के लिए बेहतरीन उत्प्रेरक के रूप में काम कर सकती है। अपनी वित्तीय शक्ति को एकत्रित करके अडानी-अंबानी गठबंधन न केवल महत्वपूर्ण क्षेत्रों में पूंजी लगाने के लिए तैयार है, बल्कि असाधारण लाभप्रद परिस्थितियों में विदेशी निवेश भी आकर्षित करने के लिए तैयार है। यह साझेदारी एफडीआई में हालिया गिरावट का प्रभावी ढंग से प्रतिकार कर सकता है, जिसमें पिछले वर्ष की तुलना में 2021 में 30.51% की कमी देखी गई।

वैश्विक विश्वास पैदा करना: व्यावसायिक समृद्धि के लिए संयुक्त मोर्चा

अंबानी परिवार के कार्यक्रम में गौतम अडानी की उपस्थिति प्रतिद्वंद्विता की किसी भी धारणा को दूर करती है. यह एक एकीकृत मोर्चा पेश करती है, जो अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के बीच विश्वास पैदा कर सकती है। एकजुटता का यह प्रदर्शन विश्व मंच पर भारतीय व्यवसायों की विश्वसनीयता बढ़ाने में महत्वपूर्ण है, जो संभावित रूप से उन विदेशी निवेशकों को लुभाएगा जो बाजार की अस्थिरता से सावधान रहे हैं।

रणनीतिक गठबंधन: इनोवेशन और विकास के लिए रास्ते बनाना

अडानी-अंबानी का तालमेल विभिन्न क्षेत्रों में अभूतपूर्व अवसरों को खोल सकता है:

डिजिटल और इन्फ्रास्ट्रक्चर सिनर्जी: अडानी समूह की बुनियादी ढांचा क्षमताओं के साथ रिलायंस जियो की दूरसंचार विशेषज्ञता एक मजबूत साझेदारी को जन्म दे सकता है, जो भारत के लिए वैश्विक प्रौद्योगिकी नेता के रूप में उभरने के लिए मंच तैयार कर सकता है।

नवीकरणीय ऊर्जा उद्यम: Sustainable Energy में अपनी प्रगति को जोड़कर दोनों समूह सौर और पवन ऊर्जा में अभिनव समाधान कर सकते हैं, जिससे भारत पर्यावरण-अनुकूल विकास में सबसे आगे हो जाएगा।

ई-कॉमर्स और लॉजिस्टिक्स इंटीग्रेशन: अडानी की लॉजिस्टिक ताकत के साथ रिलायंस की खुदरा शक्ति का निर्बाध मेल भारत के ई-कॉमर्स परिदृश्य को बदल सकता है, उपभोक्ता पहुंच और वितरण दक्षता को बढ़ा सकता है।

यह संभावित गठबंधन केवल व्यापार बढ़ाने के विषय से कहीं अधिक का प्रतिनिधित्व करता है; यह एक रणनीतिक कदम का प्रतीक है, जो भारत की गंभीर आर्थिक चुनौतियों का समाधान कर सकता है और वैश्विक निवेश क्षेत्र में अपनी स्थिति को फिर से जीवंत कर सकता है। इसलिए अडानी-अंबानी की साझेदारी की संभावना केवल दो व्यावसायिक संस्थाओं का मिलन नहीं हो सकती, बल्कि भारत के आर्थिक पुनरोद्धार और निरंतर विकास की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम हो सकती है।

प्रस्ताव को संक्षेप में बताने के लिए, यह अनुमान लगाया जा सकता है कि उपरोक्त हालिया घटना में मुकेश अंबानी और गौतम अडानी समूह का एकीकरण (साझेदारी) भारत के व्यापार परिदृश्य में संभावित परिवर्तनकारी बदलाव का संकेत देता है। नौकरशाही लालफीताशाही, अनुबंध प्रवर्तन (Contract Enforcement) मुद्दे, कम श्रम उत्पादकता और अपर्याप्त सौदे पर हस्ताक्षर की बाधा को न्यूनतम समय सीमा में उचित प्रक्रिया में वर्णित और संशोधित किया जा सकता है। भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में सकल घरेलू उत्पाद के 1.7% से घटकर सकल घरेलू उत्पाद के 0.5% तक आने को निश्चित रूप से बहुत ऊंचे आंकड़े तक पहुंचाया जा सकता है।

अडानी-अंबानी की साझेदारी का उद्देश्य एफडीआई में गिरावट को रोकना और अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के बीच विश्वास पैदा करना होगा। यह साझेदारी डिजिटल बुनियादी ढांचे, नवीकरणीय ऊर्जा और ई-कॉमर्स में अवसरों को खोल सकती है, जिससे भारत इन क्षेत्रों में ग्‍लोबल लीडर के रूप में स्थापित हो सकता है। कुल मिलाकर, अडानी-अंबानी की साझेदारी भारत के आर्थिक पुनरुत्थान और निरंतर विकास की दिशा में एक रणनीतिक कदम का प्रतिनिधित्व करती है।

Latest News

Bangladesh: बड़ा खुलासा! बांग्लादेश में पाकिस्तान और ISI करा रहा दंगे, 100 से अधिक लोगों की गई जान

Bangladesh Protests: बांग्लादेश में सरकारी नौकरी में आरक्षण को लेकर हिंसक झड़प जारी है, इस बीच अब तक 114...

More Articles Like This