Assam: असम में बाढ़ से हाहाकार, 31 हजार लोग प्रभावित, मौसम विभाग के ‘रेड अलर्ट’ ने बढ़ाई टेंशन

Must Read

Assam: बाढ़ की वजह से असम में हाहाकार मचा हुआ है. हालात बेहद खराब हैं. राज्य के 10 जिलों के 31 हजार लोग प्राकृतिक आपदा से जूझ रहे हैं. अब मौसम विभाग की भविष्यवाणी ने प्रभावित लोगों की चिंता को और बढ़ा दिया है. मालूम हो कि मौसम विभाग ने असम में अगले पांच दिनों तक कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. असम में कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, ऐसे में भारी बारिश के अलर्ट ने लोगों की चिंता में और इजाफा कर दिया है.

भारी बारिश का अलर्ट जारी
भारतीय मौसम विभाग के गुवाहाटी सेंटर ने विशेष बुलेटिन के जरिए मंगलवार को भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है. इस दौरान राज्य के कई जिलों में जमकर बारिश होगी. वहीं अगले दो दिन ओरेंज अलर्ट और एक दिन येलो अलर्ट जारी किया है. असम आपदा प्रबंधन अथॉरिटी ने बताया है कि राज्य के चिरांग, दरंग, धेमाजी, धुबरी, डिब्रूगढ़, कोकराझार, लखीमपुर, नलबाड़ी, सोनितपुर और उदलगुड़ी जिलों में 30,700 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.

सबसे ज्यादा लखीमपुर जिला प्रभावित
लखीमपुर जिला सबसे ज्यादा प्रभावित है, जहां 22 हजार लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. इसके बाद डिब्रूगढ़ में 3800 और कोकराझार में 1800 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. प्रशासन ने बाढ़ प्रभावितों के लिए 25 राहत सेंटर बनाए हैं, जिन्हें सात जिलों में संचालित किया जा रहा है. राज्य के 444 गांवों बाढ़ के पानी से घिरे हुए हैं. बाढ़ से 741 हेक्टेयर फसल बर्बाद हो चुकी है. विश्वनाथ, धुबरी, डिब्रूगढ़, गोलाहाट, कामरूप, करीमगंज, कोकराझार, लखीमपुर, माजुली, मोरीगांव, नागौन, नलबाड़ी, शिवसागर, सोनितपुर, दक्षिण सलमारा, तामुलपुर और उदलगुड़ी में बाढ़ के चलते बड़ी मात्रा में भू-कटाव हुआ है.

Latest News

डॉ. राजेश्वर सिंह ने NCERT की पुस्‍तकों में हुए संशोधन की सराहना, कहा- ये परिवर्तन छात्रों को सूचना के दृष्टिकोण से बनाएंगे सशक्त

Dr Rajeshwar Singh: डॉ. राजेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा 12वीं कक्षा तक की पुस्तकों में किए गए...

More Articles Like This