Vande Bharat Express: पटना-रांची के बीच हुआ वंदे भारत का ट्रायल, जाने कितने घंटे का है सफर

Must Read

Bihar: प्रमुख शहरों को वंदे भारत एक्सप्रेस के जरिए जोड़ने का काम भारतीय रेलवे तेजी से कर रहा है. इसी कड़ी में आज (सोमवार) को पटना-रांची के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस का पहला ट्रायल हुआ. पहली बार वंदे भारत पटना से रांची के लिए रवाना हुई. रांची पहुंचने पर इसका स्वागत में लोगों की भीड़ लग गई. वहीं, पटना जंक्शन पर भी लोग इसके दीदार के लिए उत्साहित दिखे.

मात्र छह घंटे में तय की दूरी
शानदार रफ्तार में दौड़ने वाली यह ट्रेन आज ट्रायल रन के लिए सुबह 6:55 बजे पटना जंक्शन से निकली. स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 10 से रवाना होने के बाद बरकाकाना होते हुए दोपहर 1 बजे रांची पहुंची. वंदे भारत ट्रेन ने मात्र 6 घंटे 5 मिनट में ही पटना से रांची की दूरी तय की है.

यात्रियों के लिए जल्द दौड़ेगी ट्रेन
ट्रायल रन के बाद जल्द ही पटना-रांची के बीच वंदे भारत ट्रेन का परिचालन शुरू होगा. दिखने में बिल्कुट बुलेट ट्रेन जैसी लगने वाली वंदे भारत ट्रेन बिहार और झारखंड के लोगों के लिए रेलवे की तरफ से बड़ी सौगात होगी. रांची से पटना और पटना से रांची के सफर को मात्र 6 घंटे में पूरा किया जा सकेगा. मालूम हो कि पटना से रवाना होने वाली वंदे भारत ट्रेन 6 दिन पहले ही चेन्नई से यहां पहुंची थी. पटना में इसे राजेंद्र नगर टर्मिनल के यार्ड में रखा गया था. जहां इसकी तकनीकी जांच की गई और ट्रायल रन से पहले स्टाफ को ट्रेनिंग दी गई.

उम्मीद है कि ट्रायल के बाद जल्द ही रेलवे की तरफ से इस ट्रेन के परिचालन की तिथि तय की जाएगी. इस ट्रेन की टाइमिंग और किराया क्या होगा, इसके बारे में भी जल्द ही बताया जाएगा. हालांकि इस बात की संभावना जताई जा रही है कि जून महीने आखिरी सप्ताह में इस ट्रेन का परिचालन शुरू हो सकता है.

जानें क्या है रूट
वंदे भारत ट्रेन के रूट में जहानाबाद, गया, बरकाकाना, कोडरमा, हजारीबाग टाउन और मेसरा स्टेशन पड़ेंगे. मिली जानकारी के मुताबिक, इस ट्रेन में 8 एसी चेयरकार की सुविधा होगी. प्रत्येक कोच में 4 अपातकालीन पुश बटन की सुविधा होगी, वहीं कोच जीपीएस आधारित सूचना प्रणाली से युक्त होंगे.

Latest News

डॉ. राजेश्वर सिंह ने NCERT की पुस्‍तकों में हुए संशोधन की सराहना, कहा- ये परिवर्तन छात्रों को सूचना के दृष्टिकोण से बनाएंगे सशक्त

Dr Rajeshwar Singh: डॉ. राजेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा 12वीं कक्षा तक की पुस्तकों में किए गए...

More Articles Like This