Puja Path Rule: जानिए घर में शंख रखने का सही तरीका, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

Abhinav Tripathi
Abhinav Tripathi
Sub Editor The Printlines
Must Read
Abhinav Tripathi
Abhinav Tripathi
Sub Editor The Printlines

Puja Path Rule: हिंदू धर्म में शंख का खास महत्व है. किसी भी पूजा में शंख होना शुभ माना जाता है. कोई भी धार्मिक या मांगलिक अनुष्ठान हो, सभी की शुरुआत शंख बजाने के साथ ही की जाती है. हिंदू धर्म में शंख के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है. कई लोग घर में शंख रखना बेहद पसंद करते हैं. शास्त्रों में घर में शंख रखने के नियम बताए गए हैं. घर में कितने शंख रखे जाने चाहिए, कौन सा शंख पूजा के लिए शुभ होता है. इन सब बातों का जिक्र शास्त्रों में किया गया है.

आइए आपको इस ऑर्टिकल में विस्तार से बताते हैं, कौन सा शंख पूजा के लिए शुभ होता है और घर पर कितनें शंखों को रखा जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: Budh Gochar 2024: 01 फरवरी से चमकेगी इन राशियों की किस्मत, बुध गोचर से होंगे मालामाल

घर में कितने रखें शंख

दरअसल, शास्त्रों के अनुसार घर में बने मंदिर में एक ही शंख रखा होना चाहिए. वहीं, दूसरा शंख बजाने के लिए होना चाहिए. यानी जिस शंख को बजाया जा रहा है वह पूजा के लिए नहीं प्रयोग किया जाना चाहिए. बता दें कि शंख बजाते समय मुख से लगाना पड़ता है, जिस कारण वो दूषित हो जाता. इसलिए पूजा स्थल पर रखे शंख को नहीं बजाया जाना चाहिए. पूजा के दौरान बजाने के लिए दूसरे शंख का प्रयोग किया जाना चाहिए. घर में हमेशा दो शंख रहे. एक बजाने के लिए दूसरा पूजा के लिए.

कैसी शंख से करें पूजा?

मान्यताओं के अनुसार पूजा करने के लिए दक्षिणावर्ती शंख का ही उपयोग होना चाहिए. दरअसल, ऐसा माना जाता है कि दक्षिणावर्ती शंख साक्षात लक्ष्मी का रूप होता है. अगर इसका प्रयोग पूजा के लिए किया जाए तो घर पर लक्ष्मी की कृपा बरसती है.

शंख रखने का नियम

आपको बता दें कि धार्मिक मान्यता है कि जो शंख आपने पूजा के लिए मंदिर में रखा है, उस पर परिवार से बाहर के लोगों की नजरें नहीं पड़नी चाहिए. इस वजह से शंख को हमेशा लाल रंग के स्वच्छ कपड़े से ढक कर रखना चाहिए. माना जाता है कि इससे मां लक्ष्मी भी प्रसन्न होती है और घर में धन और वैभव बने रहते हैं.

जानिए शंख से जुड़े वास्तु के नियम

आपको बता दें कि पूजा वाले शंख में रात के समय पानी भरकर रखें. सुबह इस पानी को छिड़काव घर के हर एक कोने में करें. मान्यता है कि ऐसा करने से वास्तु के दोषों से मुक्ति मिलती है.

(अस्वीकरण: लेख में दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और परंपराओं पर आधारित हैं. द प्रिंटलाइंस इसकी पुष्टी नहीं करता है)

Latest News

NSD के भारत रंग महोत्सव की 25वीं वर्षगांठ के समापन समारोह में भारत एक्सप्रेस न्यूज नेटवर्क के CMD उपेंद्र राय को किया गया सम्मानित

संस्कृति मंत्रालय और एनएसडी ने देश भर में 1 फरवरी से दुनिया के सबसे बड़े अंतराष्ट्रीय थियेटर फेस्टिवल भारत...

More Articles Like This