Adipurush: विवादों के बीच अब बदले जाएंगे विवादित डायलॉग, मेकर्स ने दी जानकारी

Must Read

Desk: फिल्म ‘आदिपुरुष’ (Adipurush) के रिलीज होने के साथ ही बवाल बढ़ गया है. फिल्म के कुछ डायलॉग पर लोगों ने आपत्ति जताई है. वहीं इसके खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका भी दायर कर दी गई थी. सोशल मीडिया पर ‘आदिपुरुष’ को लेकर तमाम बाते कही जाने लगी. वहीं ट्विटर पर इसको बैन तक करने की बात भी कही जाने लगी. ऐसे में फिल्म के मेकर्स ने अब एक बड़ा फैसला लिया है.

फिल्म के डायलॉग संगीतकार मनोज मुंतशीर शुक्ला ने लिखे हैं. उन्होंने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि फिल्म में 4000 से ज्यादा पंक्तियों के डायलॉग मैने लिखें है. कुछ डायलॉग पर से लोगों की भाववनाएं आहत हुई है. इसको बदला जाएगा. बता दें कि फिल्म के VFX पर भी सवाल खड़ा हुआ था.

यह भी पढ़ें- ट्रोलिंग के बाद Manoj Muntashir Shukla ने दिया जवाब, ‘समय की मांग के अनुसार लिखे गए डायलॉग, कुछ भी अभद्र नहीं’

मनोज शुक्ला ने कही ये बात

जानकारी हो कि जैसे ही इस फिल्म को रिलीज किया गया. इसके बाद मनोज मुंतशीर लोगों के निशाने पर आ गए. सोशल मीडिया पर उनके काफी कुछ कहा गया. हालांकि इस फिल्म के डायलॉग को लेकर कल एक निजी चैनल को उन्होंने साक्षात्कार दिया था. इस साक्षात्कार में उन्होंने कहा था कि ये समय की मांग के हिसाब से लिखे गए डायलॉग हैं. वहीं अब उन्होंने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि इस फिल्म के डायलॉग बदले जाएंगे.

मेरे लिए लिखे गए अशोभनीय शब्द: शुक्ला

मनोज मुंतशीर ने अपने एक ट्वीट मे कहा कि “मेरे ही भाइयों ने मेरे लिये सोशल मीडिया पर अशोभनीय शब्द लिखे. वहीं मेरे अपने, जिनकी पूज्य माताओं के लिए मैंने टीवी पर अनेकों बार कवितायें पढ़ीं, उन्होंने मेरी ही माँ को अभद्र शब्दों से संबोधित किया. मैं सोचता रहा, मतभेद तो हो सकता है, लेकिन मेरे भाइयों में अचानक इतनी कड़वाहट कहाँ से आ गई कि वो श्री राम का दर्शन भूल गये जो हर माँ को अपनी माँ मानते थे. शबरी के चरणों में ऐसे बैठे, जैसे कौशल्या के चरणों में बैठे हों.”

यह भी पढ़ें- Water Cooling Tips: आपके मटके में पानी नहीं हो रहा ठंडा तो करें तुरंत ये उपाय, भूल जाएंगे फ्रीज का प्रयोग

Latest News

डॉ. राजेश्वर सिंह ने NCERT की पुस्‍तकों में हुए संशोधन की सराहना, कहा- ये परिवर्तन छात्रों को सूचना के दृष्टिकोण से बनाएंगे सशक्त

Dr Rajeshwar Singh: डॉ. राजेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा 12वीं कक्षा तक की पुस्तकों में किए गए...

More Articles Like This