कुरुक्षेत्र में किसानों ने जाम किया NH, बोले टिकैत- भूत और लड़ाई का कुछ नहीं पता, कब और कहां मिल जाए

Must Read

कुरुक्षेत्रः सूरजमुखी पर एमएसपी को लेकर किसानों का गुस्सा फूट पड़ा है. किसानों की प्रशासन के साथ बातचीत किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। किसानों ने कुरुक्षेत्र में जीटी रोड को जाम कर दिया है.

वहीं, किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम हाइवे को ब्लॉक नहीं कर रहे हैं, हम तो केवल यहां बैठे हैं. हाइवे जाम करना कोई सही बात नहीं है. उन्होंने एक सवाल का जवाब देते हुए ये भी कहा कि भूत और लड़ाई का कुछ नहीं पता, कब और कहां मिल जाए.

मालूम हो कि इससे पहले किसानों ने पिपली में महापंचायत की थी. कई बार कोशिश की गई कि बीच का कोई रास्ता निकाला जाए, लेकिन किसी समाधान तक न पहुंचने की सूरत में किसानों ने सड़क को जाम करने का निर्णय लिया है.

महापंचायत को संबोधित करते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा सरकार एमएसपी कानून लागू करें और जो किसान नेता सूरजमुखी पर एमएसपी की मांग कर रहे हैं, उन्हें रिहा किया जाए. इससे नीचे कोई समझौता नहीं होगा. इससे पहले किसानों और प्रशासन के बीच दो दौर की बैठक में सहमति न बनने पर किसान नेता महापंचायत में शामिल होने के लिए निकले थे.

इस दौरान बजरंग पुनिया ने कहा था कि किसान सिर्फ एमएसपी की मांग कर रहा है. सरकार किसानों की हर बात को नजरअंदाज कर देती है.
उन्होंने कहा था कि अपनी मांगों के लिए किसानों को सड़क पर आना पड़ता है. जब वह किसानों को सड़कों पर खड़ा देखते हैं तो दुख होता है. उन्होंने कहा हरियाणा के सभी पहलवान खिलाड़ी किसानों के साथ है.

अल्टीमेटम दिया था किसानों ने
किसान महारैली में सुबह ही किसानों की भीड़ जुटने लगी थी. किसानों के तेवर को देखते हुए पुलिस ने भी अपनी तैयारियां शुरू करते हुए नाकाबंदी शुरू कर दी है। मंडी में जुटे किसानों ने सरकार को एक घंटे तक का अल्टीमेटम दिया था.

इसके बाद कहा गया था कि बैठक शुरू कर आगामी रणनीति का ऐलान किया जाएगा. अल्टीमेटम खत्म होते ही पुलिस उप अधीक्षक रणधीर सिंह किसान नेताओं से मिलने पहुंचे. उनकी और से मैसेज मिलते ही किसान नेताओं और प्रशासन के बीच बातचीत शुरू हो गई.

Latest News

जामनगर पहुंचे Arjun Kapoor, अनंत-राधिका की Pre-Wedding में होंगे शामिल

Anant Ambani-Radhika Merchant’s pre-wedding: इस समय चारों तरफ अंबानी परिवार (Ambani Family) की ही चर्चा हो रही है. चर्चा...

More Articles Like This