हिमालय की ऊंचाई तक ले जाएंगे भारत-नेपाल के संबंधों कोः पीएम मोदी

Must Read

नई द‍िल्ली। नौ साल पहले 2014 में कार्यभार संभालने के तीन महीने के अंदर उन्‍होंने नेपाल की अपनी पहली यात्रा की थी। उस समय भारत-नेपाल संबंधों के लिए एक ‘हिट’ (हाईवे, आई-वे, और ट्रांस-वे) फार्मूला दिया था। यह बातें नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कही। पीएम ने कहा, ”आज मैंने और प्रधानमंत्री प्रचंड ने भविष्य में अपनी पार्टनरशिप को सुपरहिट बनाने के लिए बहुत से महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। आज ट्रांजिट एग्रीमेंट संपन्न किया गया है।”

‘लॉन्ग टर्म पावर ट्रेड एग्रीमेंट’ हुआ संपन्न

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नेपाल के पीएम पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक की। इस दौरान अर्थव्यवस्था, ऊर्जा, बुनियादी ढांचे, शिक्षा क्षेत्र और दोनों देशों के लोगों के बीच संबंधों को मजबूत करने पर चर्चा हुई। पीएम मोदी ने कहा क‍ि आज भारत और नेपाल के बीच ‘लॉन्ग टर्म पावर ट्रेड एग्रीमेंट’ संपन्न हुआ है। इसमें हमने आने वाले दस वर्षों में नेपाल से 10 हजार मेगावाट बिजली आयात करने का लक्ष्य रखा है।

रेलवे के कुर्था-बीजलपुरा खंड की ई-योजना का अनावरण

संयुक्त रूप से पीएम मोदी और नेपाल के पीएम पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने रेलवे के कुर्था-बीजलपुरा खंड की ई-योजना का अनावरण किया। दोनों प्रधानमंत्रियों ने संयुक्त रूप से बथनाहा से नेपाल कस्टम यार्ड तक भारतीय रेल कार्गो ट्रेन को झंडी दिखाकर रवाना किया।

पीएम मोदी और नेपाल के पीएम ‘प्रचंड’ ने संयुक्त रूप से भारत और नेपाल के बीच पूर्वी चंपारण-अमलेखगंज तेल पाइपलाइन के फेज-2 का शिलान्यास किया। पीएम मोदी ने कहा, “हम अपने संबंधों को हिमालय की ऊंचाई तक ले जाने के लिए काम करते रहेंगे… और इसी भावना से हम सभी मुद्दों को सुलझाएंगे, चाहे वह सीमा का मुद्दा हो या कोई अन्य मुद्दा।”

2022 के बाद प्रचंड की पहली द्विपक्षीय विदेश यात्रा

मालूम हो कि दिसंबर 2022 में पद संभालने के बाद नेपाल के प्रधानमंत्री प्रचंड की यह पहली द्विपक्षीय विदेश यात्रा है। उनके साथ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है। नेपाल को भारत की विकास सहायता जमीनी स्तर पर बुनियादी ढांचा तैयार करने पर केंद्रित एक व्यापक आधार वाला कार्यक्रम है। बुनियादी ढांचे, स्वास्थ्य, जल संसाधन, शिक्षा और ग्रामीण व सामुदायिक विकास के क्षेत्रों में विभिन्न परियोजनाओं को लागू किया गया है।

Latest News

डॉ. राजेश्वर सिंह ने NCERT की पुस्‍तकों में हुए संशोधन की सराहना, कहा- ये परिवर्तन छात्रों को सूचना के दृष्टिकोण से बनाएंगे सशक्त

Dr Rajeshwar Singh: डॉ. राजेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा 12वीं कक्षा तक की पुस्तकों में किए गए...

More Articles Like This