United Arab Emirates: दुबई में महिलाएं पहन सकती है स्विमिंग पूल वाली हॉट ड्रेस, जानिए क्या हैं Dubai में Female ड्रेसिंग का नियम?

Must Read

Dubai Rules For Clothes: आज लगभग हर भारतीय दुबई जाना चाहते हैं. साथ ही दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा के दीदार करने का सपना होता हैं. दरअसल, कई भारतीय वहां नौकरी या काम की वजह से वहां रह रहे हैं. आपने अक्सर वहां के बारे में तरह-तरह की बातें सुनी होंगी. खासतौर पर वहां महिलाओं के कपड़ों को लेकर बतात तरह की बातें होती हैं. आइए हम आपको बताते हैं, दुबई में महिलाओं के कपड़ों को लेकर क्या नियम हैं.

आपको बता दें कि अगर आप दुबई जाना चाहते हैं, तो जाने से पहले दुबई के नियमों को जान लें. दरअसल, वहां नियमों का अनुपालन न करने वालों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. आइए हम आपको बताते हैं दुबई में महिलाओं को किस तरह कपड़े पहनने की मनाही होती है और कहां छूट है.

ज्यादा छोटे टॉप नहीं पहन सकतीं लड़कियां

यहां कामकाजी महिलाएं भी घुटने से नीचे की ड्रेसेज़ नहीं पहन सकतीं. ज्यादा छोटे टॉप पहनने के लिए मना किया जाता है. दुबई के कुछ इलाकों में ज्यादा नियमों का पालन करना होता है. हालांकि, अगर टूरिस्ट नियम फॉलो नहीं करें तो उन पर कार्रवाई नहीं होगी, लेकिन आपको कहीं पर भी कोई कपड़ों के लिए टोक सकता है.

ये हैं कपड़ों को लेकर सुझाव

सउदी कंट्रीज़ में महिलाओं को लेकर कई तरह के कानून हैं. दुबई में भी वहां के इस्लामिक कल्चर के मुताबिक ही कपड़े पहनने की सलाह ही जाती है. वहां महिलाओं को सलाह दी जाती हैं कि वो किसी भी पब्लिक प्लेस पर रिवीलिंग अटायर ना पहनें. महिलाओं को अपने कपड़ों पर खास ध्यान देने के लिए कहा जाता है जैसे कपड़े ऐसे हो जिनमें कंधे ढके हों. स्कर्ट या शॉर्ट्स घुटनों तक या उससे लंबी हो और ट्रांसपेरेंट कपड़े पहनने की सख्त मनाही है.

इस्लामिक नियमों के मुताबिक पहनने पड़ते हैं कपड़े

आपको बता दें कि मुस्लिम महिलाओं को धार्मिक स्थलों और सरकारी इमारतों पर जाने पर स्कार्फ लगाना जरूरी है. इसके अलावा महिलाओं को स्विमवियर स्विमिंग पूल या बीच पर पहन सकती हैं. वहीं, ऐसे कपड़े दूसरे सार्वजनिक स्थानों पर पहनने की पाबंदी है. बता दें कि दुबई में गैर-मुस्लिम महिलाओं को इस्लामिक नियमों के मुताबिक कपड़े पहनना पड़ता है.

Latest News

डॉ. राजेश्वर सिंह ने NCERT की पुस्‍तकों में हुए संशोधन की सराहना, कहा- ये परिवर्तन छात्रों को सूचना के दृष्टिकोण से बनाएंगे सशक्त

Dr Rajeshwar Singh: डॉ. राजेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा 12वीं कक्षा तक की पुस्तकों में किए गए...

More Articles Like This