World Brain Tumor Day 2023: वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे आज, जानें कैसे करें इसकी पहचान

Must Read

World Brain Tumor Day-2023: ब्रेन ट्यूमर, एक बेहद खतरनाक बिमारी है, जिसके आगोश में आकर हर साल लाखों लोग अपनी जान गवा देते है. वैश्विक स्तर पर साल 2020 में करीब 3 लाख लोगों में मस्तिष्क के ट्यूमर का पता चला था. शोधकर्ताओं का कहना है, साल 2025 तक अकेले अमेरिका में 20 साल से कम उम्र के 6 हजार बच्चों में इस कैंसर का निदान हो सकता है. 

ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor), मस्तिष्क या उसके आसपास की कोशिकाओं में होने वाली अनियंत्रित वृद्धि की समस्या है. जरूरी नहीं है कि हर ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) कैंसर कारक ही हो, कुछ नॉनकैंसरस भी हो सकते हैं। हालांकि, जब ट्यूमर बढ़ने लगता है, तो ये आपकी खोपड़ी के अंदर दबाव बढ़ा सकता है. इससे ब्रेन डैमेज का खतरा रहा है, जिसके कारण मृत्यु का भी जोखिम हो सकता है.

वैश्विक स्तर पर बढ़ रहे ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) के बारे में लोगों को जागरूक करने और बचाव के उपायों को लेकर शिक्षित करने के उद्देश्य से हर साल 8 जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे (World Brain Tumor Day) मनाया जाता है. तो आइए जानते है इस समस्या के बारे में…

जानिए ब्रेन ट्यूमर के बारे में
मुख्‍यरूप से ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) दो प्रकार के होते है. पहला जिसमें ट्यूमर आपके मस्तिष्क में उत्पन्न होता है और इससे मस्तिष्क के हिस्सों को क्षति का जोखिम हो सकता है. वहीं दूसरे ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) को मेटास्टैटिक ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) कहा जाता है इसमें कैंसर कोशिकाएं फेफड़े या स्तन जैसे अन्य अंगों से मस्तिष्क में फैलती हैं.

ब्रेन ट्यूमर होने के कारणों के बारे में जानिए
आपको बता दें कि ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) तब होता है, जब मस्तिष्क में या इसके पास की कोशिकाओं के डीएनए में परिवर्तन होता है. हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि किन कारणों से डीएनए परिवर्तन होता है. कुछ जोखिम कारक आपमें ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) या कैंसर के खतरे को बढ़ाने वाले हो सकते हैं. जैसे कुछ प्रकार के रसायनों के संपर्क में आने से इसका जोखिम अधिक हो सकता है. इसी प्रकार जो लोग रेडिएशन के संपर्क में ज्‍यादा रहते हैं, उनमें भी यह खतरा बढ़ता देखा गया है.

ब्रेन ट्यूमर के क्या है लक्षण?
आपको बता दें कि ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) के लक्षण ट्यूमर के स्थान और आकार पर निर्भर करते हैं. कुछ ट्यूमर मस्तिष्क के ऊतकों को सीधे नुकसान पहुंचाते हैं और कुछ ट्यूमर के आसपास के हिस्सों पर दबाव डालते हैं. इसमें अक्सर सिरदर्द होते रहना सबसे कॉमन है. इसके साथ अगर कुछ और लक्षण लंबे समय से महसूस हो रहे हैं, तो डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए.

  • आंखों की समस्याएं, जैसे धुंधला दिखाई देना या दोहरी दृष्टि.
  • सिर में दर्द या दबाव जो सुबह के समय अधिक हो.
  • अक्सर मतली या उल्टी होते रहना. 
  • शारीरिक-मानसिक संतुलन में परेशानी होना. 
  • एक हाथ या एक पैर का ठीक से काम न करना.
  • बहुत थकान महसूस होते रहना.

ब्रेन ट्यूमर का इलाज और बचाव
यदि ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) का पता चलता है, तो इसका सबसे आम इलाज सर्जरी है. जिसमें मस्तिष्क के स्वस्थ हिस्सों को नुकसान होने से बचाने के लिए कैंसर कोशिकाओं को दूर करना है. सर्जरी के साथ अन्य उपचार माध्यमों जैसे रेडिएशन और कीमोथेरेपी आदि को भी प्रयोग में लाया जा सकता है. डॉक्टर बताते है, सभी लोगों को ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) से बचाव के लिए निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए. आप अगर चाहे तो धूम्रपान और रेडिएशन जैसे जोखिमों से बचकर ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) के जोखिम को कम कर सकते हैं

Latest News

वेद, पुराण, महाभारत देंगे भारतीय सेना को नई ताकत, इंडियन आर्मी ने शुरू किया प्रोजेक्ट उद्भव

Indian Army: भारतीय सेना में हाल ही के दिनों में काफी बदलाव देखने को मिले है. ऐसे में ही...

More Articles Like This