UP News: यूपी के इस जिले में Heat Wave का कहर, 72 घंटे में 56 लोगों ने तोड़ा दम, हाहाकार

Must Read

Desk: उत्तर प्रदेश में इस समय गर्मी से हाहाकार है. पूरे प्रदेश में हीटवेव (Heat Wave) को लेकर येलो एलर्ट है. वहीं प्रदेश के बलिया से रूह कांपा देने वाली खबर सामने आई है. दरअसल यहां पर विगत 72 घंटों में 56 लोगों ने अपनी जान हीट वेव के कारण गवां दी है. इसकी जानकारी जिला चिकित्सालय से मिली है. पूरे प्रदेश में लू का कहर है. आलम ये है कि सुबह से ही गर्म हवाओं के थपेड़े चल रहे है तो वहीं शाम तक इसका प्रभाव देखने को मिल रहा है.

आंकड़ो की माने तो जिला अस्पताल में लगातार लू से बीमार लोगों की संख्या में इजाफा हो रहा है. जिला अस्पताल में विगत 15 जून को 23 मौते, 16 जून को 21 तो वहीं 17 जून को 11 मौत हुई है. इस संख्या के बाद लोगों में दहशत है. मौसम विभाग ने पहले ही जिले में हीटवेव को लेकर चेतावनी जारी की थी. डॉक्टरों का कहना है कि जिन लोगों की मौत हीट वेव के कारण हुई है उनमे ज्यादातर उन लोगों की संख्या है जो बुजुर्ग हैं और किसी अन्य बीमारी से ग्रसित है.

यह भी पढ़ें- Water Cooling Tips: आपके मटके में पानी नहीं हो रहा ठंडा तो करें तुरंत ये उपाय, भूल जाएंगे फ्रीज का प्रयोग

जिले में सामन्य से ज्यादा तापमान

दरअसल इस साल जिले में सामान्य से ज्यादा तापमान रहा है. वहीं लू का कहर भी ज्यादा रहा है. इसको लेकर पहले भी अलर्ट जारी किया गया था. मौसम विभाग द्वारा प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्र को लिखे गए एक पत्र में इस बात का जिक्र किया गया था कि इस साल पूरे प्रदेश में सामन्य से ज्यादा गर्मी पड़ेगी.

प्रशासन ने किया लोगों के साथ मजाक

पहले से भी इस बात का अलर्ट जारी था कि इस साल देश के कई कोनें में सामन्य से ज्यादा तपमान रहेगी. बावजूद इसके जिला प्रशासन ने इसको हल्के में लिया. जिहाजा परिणाम ये हुआ की जिले में हीटवेव के कारण मौतों का आंकड़ा बढ़ रहा है. जब कई मामले हीटवेव के जिला अस्पताल में आने लगे इसके बाद प्रशासन जागता है और जल्दबाजी में येलो अलर्ट 17 जून को जारी करता है. जिससे तय है कि इस मौसम की तपिश से बचने के लिए प्रशासन तैयार नहीं था.

Latest News

डॉ. राजेश्वर सिंह ने NCERT की पुस्‍तकों में हुए संशोधन की सराहना, कहा- ये परिवर्तन छात्रों को सूचना के दृष्टिकोण से बनाएंगे सशक्त

Dr Rajeshwar Singh: डॉ. राजेश्वर सिंह ने राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा 12वीं कक्षा तक की पुस्तकों में किए गए...

More Articles Like This